विश्व जल दिवस पर आओ हम सब मिलकर संकल्प लें पानी न बर्बाद करेंगे न करने देंगे:संपादक अनिल दुबे आजाद

संपादक अनिल दुबे आजाद

जल ही जीवन है जीने के लिए जल की महत्वपूर्ण भूमिका है अर्थात जल के बिना जीवन नहीं। “जल है तो कल है” “पानी की एक-एक बूंद सोना है”,”पानी अनमोल है”, ऐसे कई नारे हैं जो पानी के महत्व को बताते हैं। पानी के बिना जीवन की कल्पना तक नहीं की जा सकती है। पानी हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। पानी को पीकर ही हम अपनी प्यास मिटाते हैं। नहाने धोने से लेकर खाना बनाने तक हर जगह पानी का प्रयोग होता है। कुछ व्यक्ति तो पढ़े लिखे होकर के भी नासमझ और अनजान बनने की कोशिश किया करते हैं बताते चलें कि कुछ लोग सुबह सुबह उठकर समरसेबल टूल्लू चालू कर सड़क गलियारों में व्यर्थ पानी बहाया करते हैं उनको आज तो दिखता है कि हम अपने मकान या घर के सामने सड़क को धो रही हैं जिससे धूल गर्दा मिट्टी ना पहुंचे इस वजह से वह अपने गलियारों अपने गली मोहल्लों में पानी डालकर सुबह शाम तरी किया करते हैं लेकिन आने वाले समय में इन व्यक्तियों को अपने भविष्य की चिंता ही नहीं है और प्रतिवर्ष इस धरती से पीने के पानी का स्तर कम होता जा रहा है। ध्रुवीय क्षेत्रों पर पड़ी बर्फ पिघल रही है और महासागरों का स्तर सिकुड़ता जा रहा है। देश के कई बड़े शहरों में पानी का संकट गहरा है। इसलिए हमें पानी का सदुपयोग करना चाहिए। पानी को कभी व्यर्थ नहीं गंवाना चाहिए क्योंकि आने वाले समय में पानी की किल्लत पड़ जाएगी।
आज कई महानगर पानी के संकट में हैं आबादी लगातार बढ़ रही है और पानी के प्राकृतिक स्त्रोत सूख रहे हैं। आने वाले कुछ वर्षों में दुनिया के आधे बड़े शहर पानी के संकट से जूझ रहे होंगे। आज हमारा पर्यावरण इतना खराब हो चुका है कि जितनी बारिश होनी चाहिए इतनी नहीं होती ना ही पहाडी क्षेत्रों पर बर्फ पड़ती है। जिसके कारण पानी के प्राकृतिक स्त्रोत सूख रहे हैं। आने वाले समय में पानी का संकट दुनिया का सबसे बड़ा संकट होगा। जब हमें पीने के लिए पानी ही नहीं मिलेगा तो जीवन कहां संभव है। हम लोगो को पानी को व्यर्थ नहीं गंवाना चाहिए उसका आवश्यकतानुसार ही प्रयोग करना चाहिए। तो आइए आज हम सब मिलकर सौगंध ले की पानी का दुरुपयोग नहीं करेंगे और पानी बचाएंगे जिससे आने वाले भविष्य में लोगों को पानी की समस्या से कुछ निजात मिल सके। :REPORT-संपादक अनिल दुबे आजाद:

Leave a Reply