हँसते-हँसते कट जाएं रस्ते, जीवन में सहेजे मुस्कराहट को

– अनिल दुबे

चाह कर भी नहीं टिक पाती बहुत देर तक आँकड़ों की गणित पर, सियासी हलचलों पर, भीड़ की बनावटी मुस्कराहटों पर, वादों की मुनादी पर, साहित्यिक राजनीति पर, पुरस्कारों की ठेलम-पेल पर। बीते साल कोई और वीडियो चर्चा में था, इस साल फिलवक्त कोई और। मन कसमसाता है ऐसी घटनाओं पर , बैचेनी होती है, अजीब घुटन होती है और मैं उस अस्थमा से हलकान होती सांसों के बीच, गहरी साँस लेने, लौट आती हूँ उस खिड़की पर जहाँ से दुनिया कुछ खूबसूरत नज़र आती है।

लौटने की रूलाई को महसूस करते हुए भी यूँ लौटना ही होता है अक़्सर! और हम लौटते हैं, दुनियादारी से दूर अपने आस-पास, चिड़ियाँ की चहचहाहट सुनने, पानी पर बिछलती तरंगों का राग सुनने, दरगाह के रास्ते किसी मस्त कलंदर की सिकंदरी सुनने… ये लौटना वाकई लौटना होता है कभी अपने से परे तो कभी अपने तक, तमाम विशेषण और संज्ञाओं से परे अनाम सर्वनाम तक!

मैं लौटती हूँ यूँ फिर कुछ जी लेने, किसी वर्जित बगिया में किसी फल के उगने को देखने, फूलों के उन रंगों को टटोलने जिस पर जाने कौन अहर्निश कूची फेरता रहता है । मन उदास हो तो बाहर कांधे नहीं तलाशने होते भीतर को ही रवां किया जाता है। इस मरम्मत में बहुत सी चोटों की तीमारदारी करनी होती है। बीते जीवन की मिट्टी पर अपने ही कदमों को देखना होता है कि वो कौन था जो हाथ पकड़े इतनी दूर तक ले आया था। वो कोई तो था जो चिलचिलाती धूप के आते ही मेरे माथे पर एक बादल ला धरता है। इस अनथक यात्रा के दौरान कभी रूलाई से तो कभी हँसी से गाल लाल होते रहे पर हम बढ़ते रहे, सतत! उस अंतिम छोर की ओर…

हम और आप जाने कब से जीवन की इस सड़क पर, मुस्कराहटों की नम थपकियों को सहेजते हुए, यूंही तो चल रहे हैं ।

One comment

Leave a Reply